Home / Others / नचिकेता की कहानी, रवीश की ज़ुबानी !

नचिकेता की कहानी, रवीश की ज़ुबानी !

आपने नचिकेता की कहानी तो सुनी ही होगी. बालक नचिकेता की कहानी हमें क्यों पढ़ाई गई. नचिकेता के सवालों ने उसके पिता वाजश्रवा को कितना क्रोधित कर दिया.

क्रोध में वाजश्रवा ने नचिकेता को यमराज को ही दान कर दिया. नचिकेता ने देख लिया कि पिता सब कुछ दान देने के नाम पर अपने लोभ पर काबू नहीं पा रहे हैं. अच्छी गायों की जगह मरियल और बूढ़ी गायें दान में दे रहे हैं. नचिकेता हैरान रह जाता है. सोचता है कि पिता ने दुनिया को कहा कुछ, और कर कुछ रहे हैं. यह भ्रम नहीं टूटता अगर नचिकेता सवाल नहीं करता. नचिकेता पिता से बुनियादी सवाल करता है कि मुझे दान करना होगो तो किसे करोगे. ताम कस्मै माम दास्यसि? यानी पिता मुझे किसे दान करेंगे. वाजश्रवा को गुस्सा आता है और कहते हैं कि मृत्युव त्वाम दास्यामि. यानी जा मैं तुझे मृत्यु को दान करता हूं. याद रखियेगा, हज़ारों साल पहले की यह कहानी नचिकेता के बाप के दानवीर होने के कारण नहीं जानी जाती है, नचिकेता के नाम से जानी जाती है.

~ रवीश कुमार

देखें विडियो जिसमे रविश कुमार ने नचिकेता की पूरी कहानी बताई है

 

Comments

About Jitender Yadav

Check Also

जूते मार देना, फांसी चढ़ा देना, चौराहे पर लटका देना, देश में नई तरह की राजनीति हो रही है |

  आज नोटबंदी के पचास दिन पूरे हो गए और देश भर में स्थिति जस …

Advertisment ad adsense adlogger